Friday, March 9, 2018

ताजमहल की सच्चाई क्या है शाहजहाँ या शिव मंदिर जानिए ?


तो दोस्तों नमस्कार आज हम आपके लिए हर बार की तरह एक और रहस्य ले के आये जो ताजमल के रहस्य क्या है ?
 दोस्तों चलिए सुरवात  करते है। 

बात करते है ताजमहल के बारे  सभी को पता होगा ताजमहल के बारे में लेकिन क्या ये सच में ताजमहल है नहीं भाई लोगो ये है तेजो महालया जो एक शिव जी का मंदिर हुआ करता था यह एक पुस्तक में लिखा गया  इस पुस्तक के लेखक है पि  एन  ओक तो दोस्तों उस पुस्तक में क्या लिखा गया था और ताजमहल के पीछे क्या रहस्य था। लेकिन दोस्तों ताजमहल  पहले तेजोमहाल्या हुआ करता था और उसकी रचना जयसिंह साहब ने की  जोकि जयपुर के महराजा थे शाहजहाँ ने उनसे छीन लिया और अपने पत्नी को मेमोरियल के रूप में भेट दिया। तो दोस्तों ये बहुत ही रहस्य्मय बात है की ये सच में तेजोमहलया है।
इस जांच के लिए प्रोफेसर मारविन मिलर न्यूयार्क से इंडिया आये उन्होंने ताजमहल के रिवरसाइट दरवाजा से उसके कुछ कर्बन सेम्पल इकट्ठा किये  टेस्टिंग के लिए भेज दिए और उसका रिजल्ट जब आया वो काफी चौकाने वाली थी उस रिजल्ट में कुछ ऐसा कहा गया शाहजहाँ से 300  साल पहले पुराना ताजमहल या तेजो महालया भी कह सकते है। ये है ताजमहल का रहस्य जो की आज तक किसी को भी पता नहीं है की ताजमहल कब बना है.



तो दोस्तों कैसी लगी आज की ताजमहल का रहस्य ऐसे ही ढेर सारे रहस्यों के बारे में जानने के लिए  हमारे वेबसाइट पर आइये  धन्यवाद।

 दोस्तों  इस पोस्ट को शेयर कीजिये वॉट्सप पर फेसबुक और कमेंट करना न भूले धन्यवाद 

SHARE THIS

Author:

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है विशाल कुमार है और मैं इतिहास और रहस्य में बहुत ही रुचि रखता हूं और मेरी उम्र 24 साल है और मैं ब्लॉगिंग की शुरुआत 2018 से की उसके बाद मैं हर रहस्यो के बारे में नॉलेज लेता गया और मैन सोच क्यों न आपको भी हर रहस्यो के बारे में जानकारी दु और फिर मैंने हिंन्दी में ब्लॉग बनाया और फिर आप तक इसी के माध्यम से जानकारी पहुँचाता हूँ । मैं सोच रहा हूँ की सबको रहस्यो ,दुनिया की स्टोरी,के बारे में सबको हिंन्दी में जानकारी मिलें और आप सभी हर रहस्य और हर एक चीज के बारे में पता हो.

0 comments: