अब कम डीजल पेट्रोल में ज्यादा चलेंगी गाड़ियां बैज्ञानिको ने विकसित कर दिया है ?

अब कम डीजल पेट्रोल में ज्यादा चलेंगी गाड़ियां बैज्ञानिको ने विकसित कर दिया है ?

तेजी से बढ़ती आबादी के साथ साथ कई नुकसान देखने को मिल रहे हैं।
एक तरफ जहां सड़कों पर वाहनों की संख्या बढ़ने से प्रदूषण का लेवल बढ़ रहा है, वहीं ईधन की कमी भी हो रही है। इस वैश्विक समस्या को देखते हुए दुनियाभर के वैज्ञानिक इसके समाधान के लिए निरंतर कार्य कर रहे हैं। इसी कड़ी में वैज्ञानिकों को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। उन्होंने एक ऐसी नई तकनीक विकसित कर लिया है, जिससे न केवल आंतरिक दहन इंजन की क्षमता में 10 फीसद से ज्यादा का इजाफा होने वाला है, बल्कि ईंधन की खपत भी कम होने से यह किफायती भी साबित होगी। शोधकर्ताओं के मुताबिक, इसमें वॉल्वस के खुलने और बंद होने के लिए ऐसी प्रणाली विकसित की गई है, जिससे ईंधन की बचत अच्छी- खासी होने वाली है। साथ ही इस तकनीक की एक महत्वपूर्ण बात यह भी है कि इसका लाभ समुद्री जहाजों से लेकर कार और दोपहिया वाहन सभी को मिल सकेगा। कनाडा स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ वाटरलू में प्रोफेसर अमीर खजमेर के इस खास तकनीक से होने वाले वॉल्व को लैब में आसानी से तैयार किया जा सकता है। चूंकि ये बहुत ही सस्ते और सरल तरीके से तैयार हो सकते हैं। इसलिए इनका इस्तेमाल इंजन के उत्पादन में किया जाने वाला है। अभी इस तकनीक पर काम करते हैं इंजन शोधकर्ताओं के मुताबिक, आंतरिक दहन इंजन में जो वॉल्व लगाए जाते हैं वो कम मेकैनिज्म पर काम करते हैं। इसके चलते इनके खुलने बंद होने के समय और को बदला नहीं जा सकता है, लेकिन नई तकनीक से तैयार वॉल्व में इस समस्या का समाधान किया गया है। नामक जर्नल में प्रकशित । अध्ययन के मुताबिक, नई तकनीक में कम मेकैनिज्म वाले वॉल्वस को हाइड्रोलिक सिलेंडर्स और रोटरी हाइड्रोलिक सिलेंडर्स वॉल्वस से बदला गया है। इसके जरिये इंजन की गति और टॉर्क के अनुसार वॉल्व के खुलने और बंद होने के समय को बदला जा सकता है। शोधकर्ताओं के मुताबिक, इंजन के कार्य के अनुसार वॉल्व के खुलने और बंद होने के समय की वजह से
ईधन दक्षता में वृद्धि होगी। इसका एक लाभ तो यह मिलेगा कि इंधन की खपत कम होने से पैसे की बचत होगी, वहीं गैसों का उत्सर्जन कम होने से प्रदूषण के स्तर में भी से 3 गिरावट हो सकेगी।

Post a Comment

0 Comments