Monday, March 11, 2019

breaking news 2 मिनट की देरी और क्रैश विमान में जान गंवाने से बच गया ये शख्स!

 जीवन में कई बार इस तरह की घटनाएं होती हैं कि हम भाग्य जैसी चीजों पर विश्वास करते हैं जो करने के लिए मजबूर होती हैं एक इथियोपियाई विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने के साथ भी ऐसी ही घटना हुई थी।
breaking news 2 मिनट की देरी और क्रैश विमान में जान गंवाने से बच गया ये शख्स!
breaking news 2 मिनट की देरी और क्रैश विमान में जान गंवाने से बच गया ये शख्स!

इथियोपिया की राजधानी अदीस अबाबा से नैरोबी के लिए उड़ान भरने के तुरंत बाद

इथियोपिया की राजधानी अदीस अबाबा से नैरोबी के लिए उड़ान भरने के तुरंत बाद, एक इथियोपियाई एयरलाइंस का विमान रविवार सुबह दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस विमान का 150 वां यात्री एक भाग्यशाली ग्रीक था, जो विमान में चढ़ने में सक्षम नहीं था।

यात्री का कहना है कि वह उड़ान के लिए दो मिनट देरी से पहुंचा। रविवार को विमान में सवार सभी 157 लोगों की मौत हो गई।





एंटोनिस मार्वारोपोलिस ने फेसबुक पर 'माय लकी डे' नामक एक पोस्ट में कहा, "मैं परेशान था क्योंकि किसी ने भी गेट पर समय पर मेरी मदद नहीं की।" पोस्ट में, उसके पास दिखाए गए चित्र का उसका टिकट है। साझा किया गया।

एथेंस समाचार एजेंसी के अनुसार, एक गैर-लाभकारी संगठन, इंटरनेशनल सॉलिड वेस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष, मेट्रोपोलिस का संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम में नैरोबी जाने का कार्यक्रम था। लेकिन एंट्री गेट बंद होने के दो मिनट बाद ही।

उसने फिर एक फ्लाइट टिकट बुक किया, लेकिन फिर एयरपोर्ट के कर्मचारियों ने उसे उड़ान भरने से रोक दिया।

मेट्रोपोलिस ने अपने पोस्ट में कहा, 'वे मुझे हवाई अड्डे के पुलिस स्टेशन ले गए। अधिकारी ने मुझसे विरोध करने के लिए नहीं बल्कि भगवान का धन्यवाद करने के लिए कहा क्योंकि मैं एकमात्र यात्री था जो ईटी 302 की उड़ान में नहीं चढ़ा था, जो विमान के तुरंत बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। । '





उन्होंने पोस्ट में स्वीकार किया कि वह इस खबर से स्तब्ध हैं।

हवाई अड्डे के अधिकारियों ने कहा कि वे हस्तक्षेप करना चाहते थे क्योंकि वे एकमात्र यात्री थे जिन्होंने अपनी उड़ान बुक की थी।

मेट्रोपोलिस ने कहा, "उन्होंने मुझे बताया कि वे मुझे मेरी पहचान की जांच करने से पहले जाने नहीं दे सकते, क्योंकि मैं विमान में नहीं था, 30 से अधिक देशों के यात्री विमान में सवार थे, जिनमें से कई संयुक्त राष्ट्र (यूएन) भी थे मज़दूर


SHARE THIS

Author:

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है विशाल कुमार है और मैं इतिहास और रहस्य में बहुत ही रुचि रखता हूं और मेरी उम्र 24 साल है और मैं ब्लॉगिंग की शुरुआत 2018 से की उसके बाद मैं हर रहस्यो के बारे में नॉलेज लेता गया और मैन सोच क्यों न आपको भी हर रहस्यो के बारे में जानकारी दु और फिर मैंने हिंन्दी में ब्लॉग बनाया और फिर आप तक इसी के माध्यम से जानकारी पहुँचाता हूँ । मैं सोच रहा हूँ की सबको रहस्यो ,दुनिया की स्टोरी,के बारे में सबको हिंन्दी में जानकारी मिलें और आप सभी हर रहस्य और हर एक चीज के बारे में पता हो.

0 comments: